8 Most Dangerous Computer Virus

किसी भी डिवाइस मे virus आना एक बुरे सपने जैसा होता है | आज हम आपको अब तक के 8 सबसे खतरनाक कम्प्युटर वाइरस (8 most dangerous computer virus) के बारे मे बता रहे है |

MOST DANGEROUS COMPUTER VIRUS
MOST DANGEROUS VIRUS

1. I LOVE YOU

  • “I LOVE YOU ” शब्द जितना सुनने और कहने मे अच्छा लगता है , यह शब्द इन्टरनेट (internet) की दुनिया मे उतना ही भयानक है क्योकि “I LOVE YOU” नाम का एक कम्प्युटर वाइरस भी है , जो कुछ ही सेकंड मे पूरे कम्प्युटर सिस्टम को क्रैश कर देता है

working of ” I LOVE YOU”

  • यह वायरस एक मेल के माध्यम से आता है
  • इस वाइरस के subject में I LOVE YOU लिखा होता है।
  • साथ मे एक अटैचमेंट भी होता है। जिसका नाम होता है “लव लैटर फॉर यू ” |
  • इस अटैचमेंट पर जैसे ही क्लिक करते है वैसे ही यह वायरस दीमक की तरह पूरे कंप्यूटर में फैल जाता है।
  • इस virus के फैलते ही कंप्यूटर क्रैश हो जाता है और सभी फाइल डीलिट हो जाती है।

Important Facts of ” I LOVE YOU”

  • यह virus अभी तक का दूसरा सबसे खतरनाक वाइरस (second most dangerous Computer virus ) है |
  • आई लव यू नाम का यह वायरस हजारों कंप्यूटर्स को बर्बाद कर चुका है।
  • इस virus ने साल 2000 में करीब 10 अरब डॉलर का नुकसान पहुंचाया है।
  • दुनियाभर के 10 फीसदी से ज्यादा कंप्यूटरों में यह वायरस पाया गया है।
  • यह virus ईमेल बॉक्स से 50 लोगों को उस मैसेज को भेजता है। जिसके जरिए यह वाइरस आपके मेल में एक्टिव हुआ था

2.मेलिसा

  • यह वाइरस 1999 मे डेविड एल स्मिथ द्वारा बनाया गया था |
  • इस वाइरस का नाम फ्लोरिडा के एक विदेशी नर्तक के नाम पर पड़ा |
  • यह एक word document के रूप में शुरू हुआ था,
  • इस डॉकयुमेंट को सबसे पहले alt.sex “यूस नेट” पर पोस्ट किया गया था |
  • इस डॉकयुमेंट के द्वारा “पोर्नोग्राफिक साइटों के पासवर्ड की सूची” होने का दावा किया जाता था।
  • इससे लोगो ने उत्सुक हो कर जब इस डॉकयुमेंट को डाउनलोड करके open किया तो यह मैक्रो को अंदर ट्रिगर करने लगा
  • यह वायरस भी यूसर की ईमेल एड्रेस बुक में से शीर्ष fifty लोगों को मेल करेगा

3.कॉनफिकर

  • कॉनफिकर वायरस सन 2009 में सोशल नेटवर्किंग साइट्स(social networking site ) से active हुआ था।
  • इसके द्वारा windows operating system पर अटैक करता है।
  • यह वाइरस local network से कनेक्ट होकर दूसरी devices को भी इफेक्ट करता है।

4.स्टोर्म वार्म

  • यह वायरस सन ,साल 2006 में आया था |
  • यह वाइरस एक वेबलिंक के माध्यम से आता है।
  • जब यूसर मेल में आने वाली लिंक पर क्लिक करता है , तब ही यह वाइरस फोन में इन्स्टॉल हो जाता है।

5. Sasser

  • यह वाइरस सन 2004 मे computer science के छात्र स्वेन जैशचैन ने बनाया
  • इस virus के कारण airlines , news agencies , public transportation, banking hospital आदि मे काम बंद हो गया था
  • sasser virus के कारण लगभग 18 अरब डॉलर की क्षति हुई थी |
  • इस वाइरस के कारण दुनिया के लाखो computer ने काम करना बंद कर दिया था
  • कंप्यूटर में घुसने के बाद वायरस आईपी ऐड्रेस को स्कैन कर अन्य सिस्मट को टारगेट करता था।
  • इस वायरस से दुनियाभर में तकरीबन 10 लाख कंप्यूटर खराब हुए थे

6.Code Red

  • इस वाइरस को eEYE digital security के दो कर्मचारियो ने 2001 मे बनाया था
  • code red वाइरस के कारण लगभग 2 अरब डॉलर का नुकशान हुआ था
  • इस वाइरस के कारण ही 10-20 लाख server प्रभावित हुये
  • code red वायरस के हमले से कई महीनों तक इंटरनेट सेवा प्रभावित हुई थी।
  • इस वायरस के लिए ई-मेल अटैचमेंट या किसी फाइल को रन करने की जरूरत नहीं थी, इसके लिए तो सिर्फ इंटरनेट कनेक्शन ही काफी था
  • यह virus अभी तक का तीसरा सबसे खतरनाक वाइरस (third most dangerous Computer virus ) है |

7. My Doom

  • इस वायरस ने अपने एक झटके से 26 जनवरी 2004 को पूरी दुनिया को चौंका दिया था।
  • my doom वाइरस से पूरी दुनिया में लगभग 20 लाख कंप्यूटर प्रभावित हुए थे।
  • इस खतरनाक वायरस ने लगभग 3800 करोड़ डॉलर का नुकसान किया था।
  • यह virus अभी तक का चौथा सबसे खतरनाक वाइरस (fourth most dangerous Computer virus ) है

कम्प्युटर वाइरस क्या है एवं प्रकार ?

8. Cryptolocker(Ransomware)

  • Ransomware आज तक का सबसे खतरनाक कम्प्युटर वाइरस (most dangerous computer virus) है |
  • इस वाइरस को डिज़ाइन करने का उद्देश्य कंप्यूटर को ब्लॉक करने के लिए किया गया है.
  • Ransomware एक तरह का malicious software है , जो कम्प्युटर को ब्लॉक कर देता है |
  • यह वाइरस कम्प्युटर पर “ प्लीज रीड मी “ नाम की फाइल छोड़ देता है , जो हमे यह बताता है कि फिरौती कब तक और कैसे देनी है |
  • इसे अनलॉक करने के लिए भुगतान का अनुरोध करने वाला एक मेसेज प्रदर्शित करता है. जब तक यह फिरोती चुकाई न जाये  तब तक कंप्यूटर काम करना बंद कर देते है.
  • इसमे फिरौती का भुगतान बिटकोइन के माध्यम से होता है
  • दुनियां के लगभग 150 देश इस वाइरस से प्रभावित है. 
  • इंग्लैंड, रूस, पुर्तगाल और स्पेन जैसे देश मुख्य रूप से इस वायरस की चपेट में है.
  • इस वाइरस का सबसे ज्यादा इंग्लैंड में स्वास्थ्य से सम्बंधित और व्यवसायों से सम्बंधित संस्थानों में इसका प्रभाव देखा गया है.

यह भी देखे

Leave a Reply