**

FTP PROTOCOL IN HINDI(File Transfer Protocol in Hindi)

फ़ाइल ट्रांसफर प्रोटोकॉल (एफ़टीपी) एक एप्लीकेशन लेयर प्रोटोकॉल है जो स्थानीय और दूरस्थ सिस्टम के बीच फाइलों को स्थानांतरित करता है “

What is FTP Protocol in Hindi(एफ़टीपी क्या है)

  • FTP का पूरा नाम File Transfer Protocol (फ़ाइल ट्रांसफर प्रोटोकॉल) है।
  • एफ़टीपी एक मानक इंटरनेट प्रोटोकॉल (Standard Internet Protocol )है जो टीसीपी / आईपी(TCP/IP) द्वारा प्रदान किया जाता है
  • FTP का प्रयोग फ़ाइलों को एक होस्ट से दूसरे में स्थानांतरित करने के लिए उपयोग किया जाता है।
  • वेब पेज फ़ाइलों को उनके निर्माता से कंप्यूटर पर स्थानांतरित करने के लिए उपयोग किया जाता है जो इंटरनेट पर अन्य कंप्यूटरों के लिए सर्वर के रूप में कार्य करता है।
  • इसका उपयोग अन्य सर्वर से कंप्यूटर पर फ़ाइलों को डाउनलोड करने के लिए भी किया जाता है।

Objectives of FTP in Hindi (File Transfer Protocol)

  • File Transfer Protocol फाइलों को साझा करने की सुविधा प्रदान करता है।
  • इस Protocol का उपयोग Remote Computer के उपयोग को प्रोत्साहित करने के लिए किया जाता है।
  • यह डेटा को अधिक विश्वसनीय और कुशलता से स्थानांतरित करता है।

History of FTP Protocol in Hindi

  • पहला एफ़टीपी 1971 में अभय भूषण के द्वारा एमआईटी में निकाला गया था।
  • 1980 में मॉडर्न एफ़टीपी जॉन पोस्टल द्वारा निकाला गया।
  • 1997 में एफ़टीपीएस प्रोटोकॉल को एफ़टीपी में लागू करके चलाया गया था।
यह भी देखे

Architecture Of FTP protocol in Hindi

  • नीचे दर्शाये गए DIAGRAM मे FTP Protocol का बेसिक स्ट्रक्चर दर्शाया गया है
  • FTP के दो मुख्य 2 COMPONENT होते है
    • FTP CLIENT
    • FTP SERVER
Architecture Of FTP  protocol in hindi
Architecture Of FTP protocol in hindi

FTP Client

  • एफ़टीपी क्लाइंट एक प्रोग्राम है
  • FTP CLIENT एक फाइल ट्रांसफर प्रोटोकॉल को लागू करता है जो आपको इंटरनेट पर दो COMPUTER के बीच फाइल ट्रांसफर करने की अनुमति देता है।
  • यह एक उपयोगकर्ता को Remote System से कनेक्ट करने और फ़ाइलों को अपलोड या डाउनलोड करने की अनुमति देता है।
  • इसमें कमांड का एक सेट है जिसका उपयोग हम एक होस्ट से कनेक्ट करने के लिए कर सकते हैं, आपके और आपके होस्ट के बीच फ़ाइलों को स्थानांतरित कर सकते हैं और कनेक्शन को बंद कर सकते हैं।
  • एफ़टीपी प्रोग्राम एक वेब ब्राउज़र में एक अंतर्निहित घटक के रूप में भी उपलब्ध है।
  • यह GUI आधारित एफ़टीपी क्लाइंट फ़ाइल स्थानांतरण को बहुत आसान बनाता है और एफ़टीपी कमांड को याद रखने की भी आवश्यकता नहीं होती है।

Component of FTP Client

  • FTP Client के मुख्यतः 3 component होते है
    • User Interface
    • Control Process
    • Data Control Process

Type of FTP Client

  • FTP Client कई प्रकार के होते है जिनहे हम इंटरनेट के माध्यम से Download कर सकते है
  • कुछ Famous FTP Client निम्नलिखित है |
    • FileZilla
    • Cyberduck
    • FireFTP
    • WinSCP
    • Transmit

FTP Server

  • एफ़टीपी सर्वर एक कंप्यूटर है जिसमें एक फाइल ट्रांसफर प्रोटोकॉल (एफ़टीपी) पता होता है और एक एफ़टीपी कनेक्शन प्राप्त करने के लिए समर्पित होता है।

Type of FTP Connection

  • FTP मे Connection दो प्रकार के होते है
    • Control Connection
    • Data Connection

Control Connection

  • उपयोगकर्ता की पहचान, पासवर्ड, रिमोट डायरेक्टरी बदलने के लिए कमांड, फ़ाइलों को पुनः प्राप्त करने और स्टोर करने के लिए कमांड आदि जैसी नियंत्रण जानकारी भेजने के लिए, एफ़टीपी नियंत्रण कनेक्शन का उपयोग करता है।
  • Control Connection के लिए पोर्ट नंबर 21 का प्रयोग किया जाता है।

Data Connection

  • वास्तविक फ़ाइल भेजने के लिए, FTP डेटा कनेक्शन का उपयोग करता है।
  • Data Connection के लिए पोर्ट नंबर 20 का प्रयोग किया जाता है।

Advantages of FTP in Hindi:

  • एफ़टीपी एक कंप्यूटर से दूसरे कंप्यूटर में फ़ाइलों को स्थानांतरित करने का सबसे तेज़ तरीका है।
  • FTP अधिक कुशल है क्योंकि हमें संपूर्ण फ़ाइल प्राप्त करने के लिए सभी कार्यों को पूरा करने की आवश्यकता नहीं है।
  • एफ़टीपी सर्वर का उपयोग करने के लिए, हमें उपयोगकर्ता नाम और पासवर्ड के साथ लॉगिन करना होगा। इसलिए, हम कह सकते हैं कि एफ़टीपी अधिक सुरक्षित है।
  • FTP हमें फ़ाइलों को आगे और पीछे स्थानांतरित करने की अनुमति देता है। मान लीजिए कि आप कंपनी के एक प्रबंधक हैं, तो आप सभी कर्मचारियों को कुछ जानकारी भेजते हैं, और वे सभी एक ही सर्वर पर वापस जानकारी भेजते हैं।

Disadvantages of FTP in Hindi:

  • इसके लिए अधिक मेमोरी और प्रोग्रामिंग प्रयास की आवश्यकता होती है।
  • Clear टेक्स्ट पासवर्ड और अनएन्क्रिप्टेड डेटा।
  • Multiple टीसीपी / आईपी कनेक्शन का उपयोग किया जाता है। फ़ायरवॉल ऐसे कनेक्शन का उपयोग करने में बाधा उत्पन्न करता है।
  • फ़ायरवॉल के सक्रिय होने पर क्लाइंट मोड पर एफ़टीपी ट्रैफ़िक को फ़िल्टर करना कठिन है।
  • यह रिसीवर की ओर से integrity check को Support नहीं करता है।
  • यह तारीख / टाइमस्टैम्प विशेषता हस्तांतरण का समर्थन नहीं करता है।

FTP Session in Hindi:

  • जब क्लाइंट और सर्वर के बीच एक एफ़टीपी सत्र शुरू होता है, तो क्लाइंट , सर्वर साइड के साथ एक कंट्रोल टीसीपी कनेक्शन शुरू करता है।
  • क्लाइंट इस पर नियंत्रण जानकारी भेजता है। जब सर्वर को यह प्राप्त होता है, तो यह क्लाइंट साइड में डेटा कनेक्शन शुरू करता है।
  • एक डेटा कनेक्शन पर केवल एक फ़ाइल भेजी जा सकती है। लेकिन नियंत्रण कनेक्शन पूरे उपयोगकर्ता सत्र में सक्रिय रहता है।
  • जैसा कि हम जानते हैं कि HTTP स्टेटलेस है यानी इसे किसी भी उपयोगकर्ता की स्थिति पर नज़र रखने की आवश्यकता नहीं है। लेकिन एफटीपी को पूरे सत्र में अपने उपयोगकर्ता के बारे में एक स्थिति बनाए रखने की आवश्यकता है

अगर आपको किसी भी प्रकार का सवाल है या ebook की आपको आवश्यकता है तो आप नीचे comment कर सकते है|  क्रपया कमेंट के माध्यम से बताऐं के ये पोस्ट FTP Protocol in Hindi आपको कैसी लगी आपके सुझावों का भी स्वागत रहेगा Thanks ! दोस्तो daily update के लिए आप हमसे (e-prepation.com)  Facebook पर भी जुड़ सकते है | दोस्तो अगर आपको यह पोस्ट FTP Protocol in Hindi अच्छी लगी हो तो इस पोस्ट FTP Protocol in Hindi को Facebook पर Share अवश्य करें !

Leave a Reply