Hard Disk in Hindi Notes pdf Download

download computer memory notes of hard disk in hindi

Page Content

  • Hard Disk क्या है (What is Hard Disk)?
  • History of Hard Disk (hard disk का इतिहास )
  • Component of Hard Disk(hard Disk के पार्ट )
  • Types of Hard Disk
  • Working Of Hard Disk(Hard Disk की कार्यबिधि )
  • Important Time of Hard Disk
  • Hard Disk निर्माता कंपनी

Hard Disk क्या है (What is Hard Disk in Hindi)?

  • हार्ड डिस्क को Hard Disk Drive(HDD) के नाम से भी जानते है
  • यह एक Non Volatile Memory डिवाइस है
  • Hard Disk का काम data को स्थायी रूप से स्टोर करने और retrieve करने के लिए किया जाता है
  • इन्हे हम secondary Storage के नाम से भी जानते है |
  • Hard disk को COMPUTER MOTHERBOARD से जोड़ने के लिए PATA,SCSI,SATA आदि Data Cable का प्रयोग किया जाता है
  • Hard Disk को Electro mechanical storage डिवाइस भी कहा जाता है क्योकि यह data को स्टोर करने के लिए magnetic storage का प्रयोग करती है

History Of The Hard Disk In Hindi

  • हार्ड ड्राइव का इस्तेमाल पहली बार RAMAC 305 सिस्टम में किया गया था, इसमें 5MB की स्टोरेज कपैसिटी थी। हार्ड ड्राइव कंप्यूटर में बिल्‍ट-इन थी और रिमूवेबल नहीं थी।
  • दुनिया की पहली हार्ड ड्राइव 13 सितंबर, 1956 को आईबीएम द्वारा बाजार में पेश की गई थी।
  • IBM ने 2.6 MB कैपेसिटी वाली पहली रिमूवेबल हार्ड ड्राइव को सन 1963 मे डेवलप किया।
  • सन 1980 में IBM ने ही 550 पाउंड वजन एवं 1GB की स्‍टोरेज कैपेसिटी वाली पहली हार्ड ड्राइव को भी डेवलप किया था।
  • Rodime द्वारा सन 1983 में सबसे पहले 3.5-इंच आकार हार्ड ड्राइव डेवलप की गई । इसमें 10 MB की स्टोरेज कैपेसिटी थी।
  • Seagate ने 1992 में 7200 RPM हार्ड ड्राइव पेश की
  • Seagate ने 1996 में पहली बार 10,000 RPM हार्ड ड्राइव और 2000 में पहली 15,000 RPM हार्ड ड्राइव भी पेश की थी।
  • पहली Solid-State Drive (SSD) जैसा कि हम उन्हें आज जानते हैं, 1991 में SanDisk Corporation द्वारा 20 MB की स्टोरेज कैपेसिटी के साथ डेवलप किया गया था। हालांकि, यह फ़्लैश-बेस SSD नहीं थी, जिसे बाद में 1995 में M-Systems द्वारा पेश किया गया

Component of hard Disk in hindi

hard disk in hindi
component of hard disk
  • हार्ड ड्राइव, जो आम तौर पर कंप्यूटर के भीतर डेटा और एप्लिकेशन के लिए भंडारण प्रदान करता है, इसके आवरण के अंदर चार प्रमुख घटक होते हैं –
    • प्लैटर / Platter
      • इसका कार्य ,डेटा को संग्रहीत करना होता है
    • स्पिंडल/Spindle
      • इसका कार्य प्लेटर्स को स्पिन करना होता है
    • रीड / राइट आर्म(read write arm )
      • इसका कार्य डाटा को रीड एवं राइट करना होता है
    • एक्ट्यूएटर (Executor)
      • इसका कार्य ,रीड / राइट आर्म के कार्यों को नियंत्रित करना होता है ।

Types of Hard Disk in hindi (Hard Disk के प्रकार )

कंप्यूटर की हार्ड डिस्क ड्राइव में कई उपयोग हैं, सभी इस तथ्य पर आधारित हैं कि यह एक स्टोरेज डिवाइस है। इस प्रकार हम कह सकते हैं कि यह मुख्य रूप से तत्काल उपयोग या भविष्य के संदर्भ के लिए कंप्यूटर डेटा को स्टोर करने के लिए उपयोग किया जाता है।

Hard Disk को निम्न 4 प्रकार से बाटा जा सकता है |

  • PATA(Parallel Advanced Technology Attachment)
  • SATA (Serial Advanced Technology Attachment )
  • SCSI ( Small Computer System Interface)
  • SSD(Solid State Drive)

PATA

  • इसका पूरा नाम Parallel Advanced Technology Attachment है
  • ये प्रथम प्रकार के हार्ड डिस्क ड्राइव थे
  • PATA Drive ने कंप्यूटरों से जुड़ने के लिए समानांतर ATA(Advance Technology Attachment ) इंटरफ़ेस मानक का उपयोग किया ।
  • इस प्रकार के ड्राइव को हम  Integrated Drive Electronics/ इंटीग्रेटेड ड्राइव इलेक्ट्रॉनिक्स (IDE) और Enhanced Integrated Drive Electronics/ एन्हैंस्ड इंटीग्रेटेड ड्राइव इलेक्ट्रॉनिक्स के रूप में रेफर करते हैं।
  • Western Digital बैक द्वारा सन 1986 मे PATA DRIVE को पेश किया गया था |
  • PATA DRIVE मे डाटा ट्रान्सफर दर 133MB/s तक होती है
  • Western Digital बैक ने COMPUTER को HARD DRIVE एवं अन्य डिवाइस को जोड़ने के लिए एक सामान्य ड्राइव इंटरफ़ेस तकनीक प्रदान की

SATA

  • SATA का पूरा नाम Serial Advanced Technology Attachment है |
  • इन हार्ड ड्राइव ने डेस्कटॉप और लैपटॉप कंप्यूटर में PATA ड्राइव को बदल दिया है।
  • SATA एवं PATA के बीच मुख्य भौतिक अंतर इंटरफ़ेस का है 
  •  यह ड्राइव सीरियल सिग्नलिंग तकनीक का उपयोग करके डेटा को PATA पड्राइव की तुलना में तेज़ी से डाटा स्थानांतरित कर सकता है।
  •  SATA CABLE पतले और PATA CABLE की तुलना में अधिक लचीली होती हैं।
  •  यह कम बिजली की खपत करते हैं। SATA ड्राइव को केवल 250 mV की आवश्यकता है जबकि PATA के लिए 5V

Online mock test के लिए निम्न लिंक देखे

SCSI

  • ये काफी हद तक IDE हार्ड ड्राइव के समान होते हैं लेकिन कंप्यूटर से कनेक्ट करने के लिए वे छोटे कंप्यूटर सिस्टम इंटरफेस का उपयोग करते हैं।
  • SCSI ड्राइव को आंतरिक या बाहरी रूप से जोड़ा जा सकता है।
  • SCSI में कनेक्टेड डिवाइसों को अंत में REMOVE किया जाना चाहिए। यहाँ उनके कुछ फायदे हैं।

SSD

  • SSD का पूरा नाम Solid State Drive है

Working of hard disk in hindi (हार्ड डिस्क की कार्यविधि )

  • हार्ड ड्राइव को पूरी तरह से समझने के लिए आपको यह जानना होगा कि यह फिजिकली कैसे काम करती है।
  • हार्ड डिस्क बिभिन्न डिस्क से मिलकर बनी होती है, जो एक के ऊपर एक , कुछ मिलीमीटर पर रखे होते हैं। इन डिस्क को platters कहा जाता है।
  • इन platters पर इस तरह से पॉलिश की जाती है
  • जिससे वे हाई मिरर शाइन और अविश्वसनीय रूप से चिकने बन जाए और बड़ी मात्रा में data को स्‍टोर कर सके ।
  • platters के ऊपर और नीचे arm लगे होते हैं। जिनका कार्य डिस्क पर डेटा को राइट और रिड करना होता है।
  • आर्म प्लेटर पर फैला हुआ होता है और इसके सेंटर एज़ से प्लेटर पर मूव करता हैं। इसके एक छोर पर लगे हेड से यह प्लेटर पर डेटा को Read/Write करता है।
  • औसत डोमेस्टिक ड्राइव मेंआर्म प्रति सेकंड लगभग 50 बार मूव होता है।

Important Time of Hard Disk

किसी भी Data को Hard Disk मे Store करने एवं Hard Disk से पढ़ने के लिये तीन तरह के समय लगते है। जो निम्न है

  • Seek Time
  • Latency Time
  • Transfer Rate

Seek Time

  • Disk में Data को Read या Write करने वाले Track तक पहुँचने में लगा समय Seek time कहलाता है।

Latency Time

  • Track में Data के Sector तक पहुँचने मे लगा समय Latency time कहलाता है

Transfer Rate

  • Sector में Data को लिखने एवं पढने में जो समय लगता है। उसे Transfer Rate कहा जाता है

Hard Disk निर्माता कंपनी

  • WESTERN DIGITAL TECHNOLOGIES INC
  • Seagate
  • Toshiba
  • Hitachi
  • Sandisk
  • Kingston Technology
  • Samsung
  • Transcend
  • G-Technology
  • EMC Corporation
  • Strontium Technology

यह भी जरूर देखे

अगर आपको किसी भी प्रकार का सवाल है या ebook की आपको आवश्यकता है तो आप नीचे comment कर सकते है|  क्रपया कमेंट के माध्यम से बताऐं के ये पोस्ट आपको कैसी लगी आपके सुझावों का भी स्वागत रहेगा Thanks ! दोस्तो daily update के लिए आप हमसे (e-prepation.com)  Facebook पर भी जुड़ सकते है | दोस्तो अगर आपको यह पोस्ट अच्छी लगी हो तो इसे Facebook पर Share अवश्य करें

Leave a Reply